न्यायकर्मी

जिला दर्शन जैसलमेर

  नलीन पारीक
प्रोटोकॉल ऑफिसर जिला अध्यक्ष

इतिहास

12 वीं शताब्दी में, रावल जैसल, देवराज के रावल के सबसे बड़े बेटे को, लाउद्रवा के सिंहासन के लिए एक छोटे सौतेले भाई के पक्ष में पारित किया गया था।

त्रिकुटा की एक विशाल त्रिकोणीय चट्टान की जाँच करते हुए, आसपास की रेत से 75 मीटर से अधिक की दूरी पर एक नई राजधानी के लिए अधिक सुरक्षित स्थान के रूप में, रावल जैसल ईशुल नामक एक ऋषि से मिलता है, जो चट्टान पर रह रहा था। यह जानने पर कि जैसल यदुवंशी का था

वंशज, एसुल ने उसे बताया कि प्राचीन पौराणिक कथाओं के अनुसार कृष्ण और भीम एक समारोह के लिए इस स्थान पर आए थे, जहां कृष्ण ने भविष्यवाणी की थी कि यदुवंशी वंश के एक वंशज एक दिन यहां एक राज्य स्थापित करेंगे, जब ईशुल ने उन्हें एक वसंत दिखाया था जिसे कृष्ण ने बनाया था और उनकी भविष्यवाणी एक चट्टान में उठी। इस बैठक से उत्साहित रावल ने एसुल की भविष्यवाणी के बावजूद अपनी राजधानी को इस स्थान पर स्थानांतरित करने का फैसला किया कि इसे ढाई बार बर्खास्त किया जाएगा।

1156 में, रावल जैसल ने मिट्टी की किले के रूप में अपनी नई राजधानी की स्थापना की और खुद के नाम पर इसका नाम जैसलमेर रखा। अधिकांश इतिहासकारों के अनुसार, पंजाब के दोहा और मालवा दोआब के सिख जाट और पंजाब के दोआबा में कपूरथला राज्य के शासक सदियों से जैसलमेर के शाही परिवारों के लिए अपने प्रत्यक्ष वंश का पता लगाते हैं।

कर्मचारियों के स्वीकृत पद 176
पदस्थापित कर्मचारी 090
कर्मचारियों के रिक्त पद 086
जिले मे स्थापित न्यायालय 011

न्यायिक कर्मचारी

क्रम पद स्वीकृत पदस्थापित रिक्त
1 प्रोटोकॉल ऑफिसर 01 00 01
2 वरिष्ठ मुंसरिम 03 02 01
3 कार्यकारी अधिकारी 01 00 01
4 स्टेनो ग्रेड-प्रथम 06 03 02
5 स्टेनो ग्रेड द्वितीय 02 01 01
6 स्टेनो ग्रेड-तृतीय 02 02 00
7 स्टेनो अंग्रेजी 01 00 01
8 कार्यालय सहायक 01 01 00
9 शेरिस्तेदार ग्रेड प्रथम 03 01 02
10 शेरिस्तेदार ग्रेड द्वितीय 02 02 00
11 शेरिस्तेदार ग्रेड तृतीय 01 01 00
12 रीडर ग्रेड-प्रथम 06 05 01
13 रीडर ग्रेड-द्वितीय 03 02 01
14 रीडर ग्रेड-तृतीय 02 02 00
15 लिपिक ग्रेड-प्रथम 19 15 04
16 लिपिक ग्रेड-द्वितीय 38 28 10
17 वाहन चालक 03 01 02
18 तामील कुनिन्दा 14 13 01
19 जमादार 01 00 01
20 सहायक कर्मचारी 44 11 36
योग 170 89 81

गैर न्यायिक कर्मचारी

क्रम पद स्वीकृत पदस्थापित रिक्त
1 सहायक लेखाधिकारी द्वितीय 01 01 00
2 कनिष्ठ लेखाकार 01 00 01
3 सूचना सहायक 04 00 04
योग 06 01 05
  स्वीकृत पदस्थापित रिक्त
न्यायिक कर्मचारीयों का योग 170 89 81
गैर न्यायिक कर्मचारीयों का योग 006 01 05
कुल योग 176 90 86